navratri vrat and pooja vidhi | How to do navratri pooja

पहले तो आप सब लोगो को नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाये. आने वाले नवरात्रो की माता रानी आप सभी को सुख और समृद्धि प्राप्त करे.

सबसे पहले जानते है की नवरात्री कब की है – navratri kab ki hai और नवरात्रे क्या है? नवरात्रे को कुछ इस प्रकार से बांटा गया है (Nav) नव और (Ratri) रात्रि . नवरात्रे को हिन्दू धर्म में बहुत मान्यता दी गयी है! navratri 2018 25 March से मनाई जाएगी |

इस प्रकार नो दिन में नवरात्रे बाटे गए है-


1. शैलपुत्री- देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में ‘शैलपुत्री’ के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं।
2. ब्रह्मचारिणी- नवरात्रे पर्व के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणीकी पूजा-अर्चना की जाती है.
3. चंद्रघंटामाँ- दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है।
4. कूष्माण्डा- नवरात्रे पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डादेवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है।
5. स्कंदमाता- नवरात्रे का पाँचवाँ दिन स्कंदमाता की उपासना का दिन होता है।
6. कात्यायनी- कात्यायनी नवदुर्गा या हिंदू देवी पार्वती के नौ रूपों में छठवें रूप है!
7. कालरात्रि- माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं
8. महागौरी- माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है।
9. सिद्धिदात्री- माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं.

How to do navratri pooja

 Pooja Vidhi:

नवरात्रि पूजा विधि से पहले यह जानना बहुत जरुरी हैं नवरात्रि का अर्थ क्या हैं (Navratari Puja Vidhi)नवरात्रि  (नवरात्रि  पूजा विधि) (Navratri)  अर्थात देवी के नौ  रूपों की नौ दिन और नौ रात तक पूजा| देवी के शक्ति रूप की पूजा अर्थात नवरात्र वर्ष में चार बार मनाया जाती हैं. चैत्र ,पौष, आषाढ़ ,अश्विन .नवरात्रि में नौ दिन माँ के तीन रूपों महालक्ष्मी, महासरस्वती,और दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती हैं|

नवरात्रे पर उपवास के पीछे कारण है? नवरात्रि हमारी भारतीय संस्कृति में महान आनन्द, उत्साह और परंपरा के साथ मनाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। देवी दुर्गा के साथ संबद्ध और नौ दिन उपवास अनुष्ठान में बहुत से धार्मिक महत्व के साथ साथ विश्वास जुड़े हैं।
नवरात्रे उपवास एक प्राकृतिक हीलर है, इस प्रक्रिया के दौरान ऊर्जा का उपयोग चयापचय दर को बनाए रखने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बहाल करने के लिए किया जाता है। यह मृत कोशिकाओं और शरीर के ऊतकों को क्षतिग्रस्त करता है साथ ही अतिरिक्त विषों को जलाने के साथ-साथ उपवास की भी सिफारिश की जाती है क्योंकि यह शरीर में नमक की मात्रा को बनाए रखने में मदद करता है.

Navratri vrat rules

नवरात्रि व्रत नियम – नवरात्रि व्रत उत्सव देवी दुर्गा के नौ रूपों को समर्पित है। ‘ नवरात्रि’ के महत्व और ‘अनुराग’ (बिना पानी) और ‘निर्हार’ (बिना भोजन) ‘वात’ या चैत्र और अश्विन महीनों के दौरान उपवास के महत्व पर ‘ नवरात्रि व्रत Katha’ तनाव, जिसके माध्यम से एक भक्त अपने शरीर को तरक्की कर सकते हैं और मन। नवरात्र स्वरूप, इस प्रकार, हिंदुओं में उपवास अनुष्ठानों के सबसे पवित्र में से एक है।









No comments:

Post a Comment

Prem Mandir Vrindavan ,Mathura

prem mandir vrindavan वृंदावन का प्रेम मंदिर बहुत प्रसिद्ध है प्रेम मंदिर की स्थापना किपलू महाराज जी ने १४ जनवरी २००१ को लाखो श्रद्धालुओ...