Garibi dur karne ke Upay | Garibi Hatane ke Upay

Garibi dur karne ke Upay


यह निश्चित है कि वह पूरी तरह नहीं हटेगी चाहे पूरी दुनिया जोर लगा ले। वैसे तो प्राचीनकाल से ही वह रही है। हम भारतीयों को तो सदैव फकीरी ही पसंद रही है। सुदामा क्या थे, भगवान कृष्ण के बाल सखा होने के बावजूद उन्हें खाने के लाले पडे़ रहते थे। जब उस युग में गरीबी नहीं हटी तो आज क्या खाकर हमारी सरकार हटाएगी। गरीबी हमारे लिए शाश्वत सत्य है। उसे हमें सहर्ष स्वीकार कर लेना चाहिए।

Garibi ko dur karne ke Tarike

हम ही क्या पूरा विश्व ही उसे हटाने के पीछे पड़ा हुआ है। उस दिन संयुक्त राष्ट्र के आह्वान पर पूरे दिन हमारे स्कूली बच्चे भूखे प्यासे स्टैंड अप रहे कि वह हट जाए। हमारे मंत्री जी ने भी उसे हटाने के लिए जलेबी व्रत रखा और केवल जलेबी के अतिरिक्त मुख में कुछ भी नहीं डाला, लेकिन वह नहीं हटी। यद्यपि विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि उनकी तो हट गई। मंत्री बनने के पूर्व वह फटीचर सी साइकल पर चला करते थे लेकिन अब चमचमाती कार में घूमते हैं। यदि सभी को मंत्री या अफसर बना दिया जाए तो शायद वह हट जाए।



इंदिरा गांधी ने सर्वप्रथम गरीबी हटाने का नारा दिया था। पूरी कांग्रेस पार्टी की गरीबी काफूर हो गई। एनडीए शासन के समय अटल जी ने भी बहुत दम लगाया। इंडिया शाइनिंग कराया लेकिन वह नहीं हटी। हां, उनकी पार्टी के नेताओं की हट गई और वे कोल्हापुरी चप्पलों से हटकर हाइटेक होकर चुनाव लड़ने लगे। मनमोहन सिंह जी कई वर्षों से इसे हटाने में प्राणपण से जुटे हैं। उदारीकरण और विदेशी धन से हमारी गरीबी दूर करने की कोशिश की जा रही है। इस वर्ष अरबपतियों की जो लिस्ट आई है उसमें हमारा देश अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर आ गया है। बधाई हो! गरीबी कोई एक दिन में हटने वाली तो है नहीं। पहले ऊपर वालों की हटेगी फिर नीचे वालों की हटेगी। भिखमंगों के देश में अरबपतियों के बढ़ने से हमारी अमीरी बढ़ी कि नहीं? गरीबी हटी कि नहीं?


Related post

जाने लाल किताब में धन प्राप्ति से जुड़े बहुत ही अचूक एवं सरल उपाय !
आप बन सकते है लखपति, दीपावली में इस तरह करे पूजा !

Dhan Prapti ke upay | Laxmi Prapti ke totke

Dhan Prapti Ke Upay


All the personalities want to possess voluminous wealth. so as to be richer, one must dream huge and ignite the fireplace within. Moreover, just in case you wish to accumulate plenty of cash then you wish to dream, dream and mull over it. By following the tried ways that, and “the Trinity of God” square measure idolized.



The Lord Hindu deity is meant to be our Preserver. The act of attending lord Hindu deity pleases Maa Laxmi too and he or she blesses with voluminous love.

Put the massive image of Maa Laxmi and Lord Hindu deity in your house. you wish to worship Shaligram daily religiously in conjunction with Chandan

Offer Red colored Rose to Hindu deity and Laxmi on each Friday evening.

Burn a none stop material Lamp for eleven days perpetually. On the eleventh day, invite and decision eleven younger feminine youngsters.

                                  Dhan Prapti ke Upay in Hindi

On each Friday, stand south facing; wash the Hindu deity idol with the assistance of the water within the Shankh, post laundry Hindu deity Idol, fold your hands and tell all of your prayers and keep reciting them for a minimum of seven times. If you'll be able to recite the prayers in conjunction with the name of the Lord Hindu deity 108 times or as again and again the maximum amount you'll be able to.

Akshay Tritiya 2018 | Why Akshay Tritya Celebrated

Akshay Tritiya 2018

India is a nation that praises a considerable measure of celebrations. Such occasional celebrations are the strings of the Indian age-old custom which tie individuals to their foundations. Each Hindu celebration has its own particular essentialness. For instance, if Ram Navami is praised as the birth commemoration of Lord Ram, Janmashtami is the event when individuals observe Lord Krishna's birthday. On the off chance that the first occurs on Chaitra (March in English), the later one is the event of Vadra (Mainly in mid-August).


Akshaya Tritiya or the gold celebration is one such occasional celebration of Baisakha (in April). Generally, it is praised on the third lunar day of the brilliant fortnight. On the seventh day from the Indian New-year on first Baisakh, individuals observe Akshaya Tritiya. Like each other event, there is some sign of Akshaya Tritiya. In Sanskrit, the word 'Akshaya' implies no rot. It is trusted in Hinduism that this day gets favorable luck and fortunes your life.

Then again, the hugeness of Akshaya Tritiya is extremely intriguing. Like each other Indian Hindu celebrations, Akshaya Tritiya or the gold celebration depends on some captivating myths and old stories. It is trusted that on the off chance that you give healthily on this heavenly day, you get gifts of the Almighty to have more throughout everyday life.


Kamal Gatta Mala Puja and Benefits

Kamal Gatta Mala Puja and Benefits 


There are numerous individuals, who need to get stacked with various accomplishment in their business life yet they are basically confounded which item would be on the whole correct to wear.

Here, we will investigate the Kamal Gatta Mala. In this unique circumstance, they are matched in a decent way by the specialists to produce the best advantages.

What Is All About The Kamal Gatta Mala? 


This mala related to goddess Maha Lakshmi. It is all the more effective mala. This sort of mala is combined with other mala to improve its energy. It gives you shield cover those ensure all of you negative vitality and hostile stares.



On the off chance that your life has turned out to be troublesome, at that point you should wear it. It expels all sort of challenges from your life. It is fundamental to specify that the must not be phony. It made by the unadulterated genuine mala.

Mantra for Kamal Gatta Mala 


In this segment mantra for this Mala is being portrayed beneath. You should perform droning for goddess Maha Lakshmi with Lotus Seed Mala. This mantra is intense for taking care of riches related issues.


We should look at it.


1st Mantra – “Om Shree Maha Lakshmai Namah”

2nd Mantra – “Om Shreen Hreen Shreen Kamae Kamlalae Praseed Shrren Hreen Shreen Maha Lakshmae Namah”

How was Lord Shiva Born? What is the Secret of Shiva's Birth?


As per Hindu folklore, Shiva, the destroyer discovers more noticeable quality than Brahma, the maker, and Vishnu, the defender. This is the motivation behind why Lord Shiva is the most revered God in the Holy Trinity. Be that as it may, did you know the introduction of Shiva was because of the other two mainstays of the Holy Trinity – Lord Brahma and Lord Vishnu? 

So How was Lord Shiva Born? 


Shiva is frequently tended to as 'Sayambhu' which implies that he wasn't conceived from any lady. Since he is a definitive one and isn't conceived from the womb of a lady, the inquiry is the means by which was he conceived at that point. All things considered, there's an intriguing story behind it. 

Once, the two Gods – Lord Brahma and Lord Vishnu were contending about each other's amazingness. Amid their warmed verbal confrontation, a secretive strong column showed up all of a sudden before them. Notwithstanding, the column was so long and strong that both could see neither the base of the column nor the peak. Together they pondered what might it be able to be as it arrived in a way that tested their amazingness 



Their exchange over each other's amazingness stifled as they began thinking about whether there is a third element too which is more effective than them. So as to discover reality, both, chose to take a voyage – Lord Brahma changed into Goose and took his flight towards the sky while Lord Vishnu appeared as a pig and began delving into the earth to discover the base of the column.



This entire exercise took years and neither of the two could prevail in their endeavor. Feeling lowered, they both returned to where they began just to discover Lord Shiva rising in a shape that they could get it. Indeed, the bigger column which neither of the two Gods could comprehend was one type of Lord Shiva before he rose in a frame that anybody could get it. 

Likewise Read: Lord Hanuman and Shani Dev |  Lesser Known Facts 

Both, Lord Brahma and Lord Vishnu comprehended that Shiva's presence and astronomical forces were outside their ability to grasp and no uncertainty he is the most capable out of the three. This is the means by which Lord Shiva began and appeared.

यदि आप जीवन में सफल होना चाहते हो तो ये उपाय जरुर करे

Safalta Ke Upaye:

हिन्दू धर्म में ऐसी बहुत सी बाते बताई गयी है जिसका यदि हम सही से upyog करे तो हम में जीवन में कभी असफलता का मुह ही ना देखना पड़े |

Safalta ke Mantra Hindi 

वैसे तो जीवन  safalta prapt krne के कई mantra है पर हम आपको ऐसे mantra बतायेगे जिसे प्रयोग करने के बाद आप कभी असफल नही होंगे | कुछ सूत्र हैं जो उन दरवाजों की तरह हैं जिनसे सफलता के सिंहासन तक पहुंचा जा सकता है। ये सूत्र हैं-


Humesha Khush rehe aur oro ko bhi khush rakhe:


safalta prapti ka phela upaye hai ki  aap khud to khush rehe pr durso ko bhi khush rakhe. kyuki jagah pr khusi hogi vaha pr kabhi tanav aa hi nhi skta . 

Puri Mehant or Lagan ke saath kaam kre :


jivan mei aap koe bhi kaam kre vo puri mehant or lagan ke saath hi kre . ydi aap kaam mei pura mann lga kr kregy to aap kabhi bhi asafal nhi ho skte.



Time Magement :


Aap koi bhi kaam kre chahe chota ho ya bda . us kaam ko pura samya se . tabhi aapko safalta prapt hogi .kyuki kisi bhi kaam mei safal hone ke liye time managment bhut jruri hai.

Positive Thinking:


 Safalta prapti ka ek achuk upay ye bhi hi aap humesha aasavadi rehe .Ydi aap positive rehogy to ek na ek din aapko safalta avsya milegi .

Dosto ydi aapne ye sabhi upaye aapne jivan mei kr liye na to aapko safal hone se koe bhi nhi rok skta .

Related Post :

Pariksha Me Pass Hone Ke Upay

padhai me man lagane ka mantra



निधिवन से जुडी कुछ रहस्यमयी और अलौकिक कथाये – यहाँ आज भी राधा संग रास रचाते है कृष्ण

भारत में ऐसे कई स्थल है आपने आप में बहुत से कथाये / रहस्य समेटे हुए है | उनमें से ही एक है निधिवन | निधिवन वृदावन में है | यह के लोग ऐसा मानते है की आज भी श्री कृष्ण  ( shri  krishna) हर रात गोपियों के साथ यह रास लीला करते है इसी कारण से इसको दिन के समय ही खोला जाता है ओर शाम के समय] यह मंदिर बंद होता है यहा तक की पशु पश्री भी निधिवन छोड़ क्र चले जाते है |


ऐसा माना जाता है की यदि कोई भी व्यक्ति रास लीला देखने का प्रयास करता है तो वह पागल हो जाता है ऐसा यह अभी तक दो बार हो चुका है | वर्षो पहेले एक व्यक्ति ने रात में छिपकर रासलीला देखा तो | सुबह जब मंदिर का दरवाजा खुला तो वह व्यक्ति बेहोश था जब होश में आया तो उसका मानसिक संतुलन ठीक नही था क्युकी वह कृष्ण जी का बहुत बड़ा भक्त था तो मंदिर के लोगो ने उसकी मृतु के बाद उसके नाम पर एक मंदिर बनवाया | जिसका नाम पागल बाबा है |



एक ओर katha के अनुसार कहा जाता है की निधिवन में बहुत जाय्दा tulsi ke paudha है ओर कोई भी पेड़ अकेला नही है सब जोड़ो में है ऐसी मान्यता है की रात के समय ये tulsi गोपियों बन जाती है ओर सुबह फिर से tulsi | ऐसा भी माना जाता है यदि कोई व्यक्ति यह से tulsi ले जाने की कोशिश भी करता है तो वह किसी ना किसी आपदा का शिकार हो जाता है तभी यह कोई भी तुलसी को हाथ लगाने से भी डरते है 

ऐसी बहुत सी कथाये निधिवन के बारे में यदि आप कभी  वृदावन में जाए तो निधिवन में जरुर जाए |

source : mereprabhu.com

वशीकरण करने का सरल उपाय टोटके- मन चाही स्त्री या पुरुष

स्त्री वशीकरण के टोटके – 


वैसे तो वशीकरण के अनेक तरीके प्रचलित है जिनमे से vashikaran ke saral upay in hindi  कुछ सावर्जनिक रूप से है और कुछ बहुत ही गोपनीय एवम अति प्रभावशाली है. तंत्र, मंत्र तथा यंत्र के क्षेत्र में ही वशीकरण के कई अनेक अचूक और 100 प्रतिशत प्रमाणिक साधन अथवा उपाय उपलब्ध है. लेकिन हर प्रयोग में किसी न किसी विशेष विधि एवम नियम कायदों का पालन करना पड़ता है.


पीपल के पत्ते से वशीकरण


आप सबसे पहले किसी भी दिन दो सूखे हुए पीपल के पत्ते तोड़ ले, नीचे से न उठाए, कुछ पीले/सूखे से हो, आप जिस से प्यार करते है, या जिस व्यक्ति को वशीकरण करना चाहते हो उस का नाम दोनों पीपल के पत्तो पर लिख दे, एक पत्ते को वही पीपल के पेड़ के पास उल्टा कर के रख दे और उस पर भारी पत्थर रख दे, और दुसरे पत्ते को घर की छत पर उल्टा कर के रख दे और उस पर भी पत्थर रख दे, और प्रतिदिन पीपल के पेड़ में पानी भी चढाये ! कुछ दिन बाद आप को वह व्यक्ति संपर्क करेगा और वो आपकी तरफ आकर्षित होने लगेगा !

वशीकरण के चमत्कारी उपाय


अगर पति या प्रेमी का पत्नी या प्रेमिका के प्रति प्यार कम हो गया हो तो श्री कृष्ण का स्मरण कर तीन इलायची अपने बदन से स्पर्श करती हुई शुक्रवार के दिन छुपा कर रखें। जैसे अगर साड़ी पहनतीं हैं तो अपने पल्लू में बांध कर उसे रखा जा सकता है और अन्य लिबास पहनती हैं तो रूमाल में रखा जा सकता है। (तुलसी से 2 घंटे में मुंहमांगी इच्छा पूरी करने का खतरनाक टोटका करें)

शनिवार की सुबह वह इलायची पीस कर किसी भी व्यंजन में मिलाकर पति या प्रेमी को खिला दें। मात्र तीन शुक्रवार में स्पष्ट फर्क नजर आएगा।


पति की रूचि पत्नी में कम हो गयी हो तो दोनों साथ भोजन करें और भोजन के समय चुपके से पत्नी पति के खाने में अपनी थाली से थोड़ा भोजन रख दे। इससे पति फिर से पत्नी में रूचि लेने लगता है।
Related Post



शगुन-अपशगुन की ये बातें आप भी जरूर मानते होंगे ..

घर में छोटी से छोटी वस्तु का भी अपना ही स्थान होता है, कभी-कभी बेकार समझी जाने वाली वस्तु भी घर में अपना महत्व सिद्ध कर देती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि गृहस्थी में रोजाना काम में आने वाली चीजों से भी शकुन-अपशकुन जुड़े होते हैं, जो जीवन में कई महत्वपूर्ण मोड़ लाते हैं। शकुन शुभ फल देते हैं वहीं अपशकुन इंसान को आने वाले संकटों से सावधान करते हैं। तो आइए आज हम आपको सामान्यतौर पर मिलने वाली वस्तुओं से जुड़े शकुन-अपशकुन (shagun apshagun) के बारे में बताते हैं।


  • सुबह-सुबह दूध को देखना शुभ कहा जाता है। दूध का उबलकर गिरना शुभ माना जाता है। इससे घर में सुख-शांति, संपत्ति, मान व वैभव की उन्नति होती है। दूध का बिखर जाना अपशकुन मानते हैं जो किसी दुर्घटना का संकेत है। दूध को जान-बूझ कर छलकाना अपशकुन माना जाता है जो घर में कलह का कारण है।


  • यदि आप कहीं जा रहें और बिल्ली आपके सामने कोई खाने वाली वस्तु लेकर आये और म्याऊं बोले तो- अशुभ होता है। यही क्रिया आपके घर आते समय हो तो- शुभ होता है।

  • जाते वक्त बिल्ली बायीं ओर दिखे तो शुभ होता है और दायीं ओर दिखे तो अशुभ होता है।

  • आटे का घर की गृहणी एवं रसोई से बहुत गहरा सम्बन्ध होता है। कहते हैं आटा को बहुत शुभ शकुन माना जाता है। एक धारणा के अनुसार रसोई में यदि कोई गृहणी आटा गूंथ रही हो-उसमें से थोड़ा-सा आटा उछलकर गिर जाएं तो घर में किसी मेहमान के आने का शुभ शकुन माना जाता है क्योंकि मेहमान घर में खुशियां लाता है।

  • यदि कोई नवविवाहिता अपनी शादी का जोड़ा पहन कर श्रृंगार सहित खुद को टूटे दर्पण में देखती है तो भी अपशकुन होता है
                                             Read Also : shubh ashubh sanket in hindi
  • जेब को खाली रखना अपशकुन मानते हैं। कहा जाता है कि पैसे को अपने कपड़ों की हर जेब में रखना चाहिए। कभी भी पर्स खाली नहीं रखना चाहिए।

  • झाड़ू को घर की लक्ष्मी मानते हैं क्योंकि यह दरिद्रता को घर से बाहर निकालता है। इससे भी कई शकुन व अपशकुन जुड़े हैं। दीपावली के त्यौहार पर नया झाडू घर में लाना लक्ष्मी जी के आगमन का शुभ शकुन है। नए घर में गृह प्रवेश से पूर्व नए झाडू का घर में लाना शुभ होता है। झाडू के ऊपर पांव रखना गलत समझा जाता है। यह माना जाता है कि व्यक्ति घर आई लक्ष्मी को ठुकरा रहा है।




Prem Mandir Vrindavan ,Mathura

prem mandir vrindavan वृंदावन का प्रेम मंदिर बहुत प्रसिद्ध है प्रेम मंदिर की स्थापना किपलू महाराज जी ने १४ जनवरी २००१ को लाखो श्रद्धालुओ...